आगमन

वीजा और निवास परमिट

साधारण टिप्पणियाँ

वीजा और निवास परमिट (Aufenthaltstitel) में कुछ महत्वपूर्ण अंतर हैं।

वीजा जर्मनी में प्रवेश करने के लिए आवश्यक प्रमाणपत्र है। यह पूरे विश्व में जर्मन दूतावासों और कंसल्टेंटों द्वारा जारी किया जाता है। अगर कोई व्यक्‍ति जर्मनी में अध्ययन या काम के लिए तीन माह से अधिक समय के लिए रुकना चाहता है तो उसे उपयुक्त वीजा के लिए आवेदन करना होगा। वीजा का प्रकार हमेशा निवास के उद्देश्य के आधार पर तय होता है, जैसे अध्ययन वीजा (अनुच्छेद 16), कार्य वीजा (अनुच्छेद 18), उच्च प्रशिक्षण प्राप्त व्यक्ति के लिए स्थायी निवास (अनुच्छेद 19) और शोध वीजा (अनुच्छेद 20)।

जर्मनी में पढ़ने या काम करने के इरादे से आने वाले व्यक्ति को इस देश में यात्री वीजा के साथ प्रवेश नहीं करना चाहिए क्योंकि इसे बाद में निवास परमिट में नहीं बदला जा सकता है।

निवास परमिट (या निवास अनुमति प्रमाणपत्र) किसी खास उद्देश्य से जर्मनी में रुकने की अनुमति देने वाला परमिट है। यह परमिट स्थानीय आप्रवास ऑफ़िस द्वारा जारी किया जाता है और जर्मनी में प्रवेश करने के बाद तीन माह के अंदर इसके लिए आवेदन करना अनिवार्य है। निवास परमिट हमेशा इनसे संबद्ध होता है : (क) निवास का खास उद्देश्य, और (ख) निवास का खास स्थान।

निवास परमिट की अवधि बढ़ाने के लिए इसकी तारीख के बीतने से कम से कम एक माह पहले आवेदन करना होता है।

अगर निवास के उद्देश्य या जर्मनी में वास स्थान में परिवर्तन हुआ हो तो निवास परमिट में परिवर्तन के लिए आवेदन करना भी अनिवार्य है।

 

अंतरराष्ट्रीय छात्रों के लिए वीजा प्रक्रियाएँ

जो व्यक्ति ई.यू. या यूरोपीय संघ के नागरिक नहीं हैं उन्हें जर्मनी में प्रवेश करने से पहले छात्र वीजा के लिए आवेदन करना होगा। पहले कदम के रूप में बेरॉयथ विश्वविद्यालय में प्रवेश के लिए आवेदन करना होगा। अगर छात्र प्रवेश की सभी शर्तों को पूरा करता है तो उसे स्वीकृति पत्र भेजा जाता है। इसके बाद वह निकटतम जर्मन दूतावास में छात्र वीजा के लिए आवेदन कर सकता है। वीजा के बिना जर्मनी में प्रवेश करने वाले व्यक्ति को तुरंत वापस भेज दिया जाता है!

जर्मनी में यात्री वीजा के साथ प्रवेश करने की सलाह बिलकुल नहीं दी जाती है क्योंकि इसे अध्ययन के उद्देश्य से निवास परमिट में नहीं बदला जा सकता है!

वीजा के आवेदन में निम्नलिखित दस्तावेज़ आवश्यक हैं :

  1. मान्य पासपोर्ट
  2. बेरॉयथ विश्वविद्यालय का प्रवेश स्वीकृति पत्र
  3. यात्रा स्वास्थ्य बीमा
  4. मौलिक आवश्यकताओं के लिए पर्याप्त आर्थिक साधन का प्रमाण
  5. विशेष परिस्थितियों में : जर्मन दक्षता का प्रमाण

अध्ययन के लिए पर्याप्त आर्थिक साधन का प्रमाण इस प्रकार प्रस्तुत किया जा सकता है :

  1. छात्रवृत्ति प्रमाणपत्र
  2. निजी फंड। इस मामले में आवेदक को इस बात की पुष्टि करनी होगी कि उसने आवश्यक राशि निरोधित (ब्लॉक्ड) खाते में जमा कर दी है

जो व्यक्ति यूरोपीय संघ के नागरिक नहीं हैं उन्हें बेरॉयथ विश्वविद्यालय में अध्ययन के लिए प्रवेश पाने के बाद बेरॉयथ में आगमन के एक सप्ताह के अंदर निवासी रजिस्ट्रेशन ऑफ़िस (Einwohnermeldeamt) में रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। इसके बाद ही वे आप्रवासी ऑफ़िस (Ausländeramt) में निवास परमिट के लिए आवेदन कर सकते हैं।  

निवास परमिट के आवेदन के लिए निम्नलिखित दस्तावेज़ आवश्‍यक हैं :

  1. उपयुक्त वीजा के साथ मान्य पासपोर्ट
  2. निवासी रजिस्ट्रेशन ऑफ़िस का रजिस्ट्रेशन प्रमाणपत्र
  3. बेरॉयथ विश्वविद्यालय का प्रवेश स्वीकृति पत्र
  4. पूरी निवास अवधि के लिए मान्य जर्मन स्वास्थ्य बीमा (सरकारी या निजी)
  5. मौलिक आवश्यकताओं के लिए पर्याप्त आर्थिक साधन का प्रमाण (छात्रवृत्ति प्रमाणपत्र या निरोधित (ब्लॉक्ड) खाते का प्रमाण)
  6. बायोमेट्रिक मानकों पर खरा उतरने वाला 1 पासपोर्ट फ़ोटो
  7. शुल्क : एक साल तक की निवास अवधि : € 50, ख) एक साल से अधिक लंबी निवास अवधि : € 60

कृपया निम्नलिखित बातों पर ध्यान दें :

  1. छात्र परमिट (अनुच्छेद 16) को कार्य परमिट (अनुच्छेद 18) में केवल तब बदला जा सकता है जब निवास का मूल उद्देश्य, जैसे कोर्स (बैचलर, मास्टर, डॉक्टरेट), की प्राप्ति हो गई हो।
  2. जैसे ही जर्मनी में निवास का उद्देश्य पूरा हो जाता है (जैसे पढ़ाई पूरी हो जाना), वैसे ही जर्मनी छोड़कर जाने की तैयारी शुरू कर कर देनी चाहिए। हालाँकि, स्नातक नौकरी ढूँढ़ने या आगे की पढ़ाई करने के उद्देश्य से अपने निवास परमिट की अवधि बढ़ाने के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए यह आवश्यक है कि वे पढ़ाई खत्म होने से पहले यानी अंतिम परीक्षाओं, जिनके बाद वे विश्वविद्यालय में नामांकित नहीं रहेंगे, से पहले निवास परमिट बढ़ाने के लिए आप्रवास ऑफ़िस में आवेदन करें। ।
  3. डॉक्टरेट छात्रों को अपनी निवास और आर्थिक योजना बनाते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि शोध प्रबंध (डिसर्टेशन) जमा करने और मौखिक परीक्षा देने के बाद उन्हें अपनी डॉक्टोरल थीसिस को प्रकाशित कराना होगा। शोध प्रबंध जमा करने के बाद छात्र स्वाभाविक रूप से नामांकित नहीं रहता है। इसका अर्थ यह है कि डॉक्टरेट छात्रों को शोध प्रबंध जमा करने से पहले अपने निवास परमिट की अवधि बढ़ाने के लिए आवेदन करना होगा ताकि वे जर्मनी में अपने शोध प्रबंध के प्रकाशन की तैयारी कर सकें। उन्हें यह भी सुनिश्‍चित करना होगा कि बाकी बची निवास अवधि के लिए उनके पास पर्याप्त आर्थिक साधन उपलब्ध रहे।

 

अंतरराष्ट्रीय अतिथि स्कॉलरों के लिए वीजा प्रक्रियाएँ

क) यूरोपीय संघ और स्विट्ज़रलैंड, नॉर्वे और लाइखटेंस्टाइन के स्कॉलरों को जर्मनी में प्रवेश करने के लिए वीजा की आवश्यकता नहीं होती है। अगर वे जर्मनी में तीन महीने से अधिक समय के लिए रहना चाहते हैं तो उन्हें इस देश में आने के बाद एक सप्ताह के अंदर राटहाउस में निवासी रजिस्ट्रेशन ऑफ़िस में रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके बाद उन्हें घूमने की स्वतंत्रता के प्रमाणपत्र के लिए आप्रवास ऑफ़िस में आवेदन करना होगा।

ख) संयुक्त राज्य अमेरिका, इज़राइल, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, दक्षिण कोरिया, न्यूजीलैंड, और जापान के स्कॉलरों को जर्मनी में प्रवेश करने के लिए वीजा का आवश्यकता नहीं है। अगर वे जर्मनी में तीन महीने से अधिक समय के लिए रहना चाहते हैं तो उन्हें इस देश में आने के बाद एक सप्ताह के अंदर राटहाउस में निवासी रजिस्ट्रेशन ऑफ़िस में रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इसके बाद उन्हें आप्रवास ऑफ़िस में निवास अनुमति प्रमाणपत्र के लिए आवेदन करना होगा।

अतिथि स्कॉलरों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बेरॉयथ विश्‍वविद्यालय से कार्य अनुबंध पाने के लिए उन्हें मान्य निवास परमिट प्रस्तुत करना होगा! इसलिए उन्हें जर्मनी में आने और पहले कार्यदिवस के बीच लगभग 10 दिन का समय लेकर चलना चाहिए ताकि वे अपने निवास परमिट के लिए आवेदन कर सकें और आप्रवास ऑफ़िस के पास उनके आवेदन की प्रक्रिया पूरी करने का पर्याप्त समय हो।

अन्य देशों के स्कॉलरों को जर्मनी में प्रवेश करने से पहले विदेश में जर्मनी का प्रतिनिधित्व करने वाली संस्था में वीजा के लिए आवेदन करना होगा।

वीजा के आवेदन के लिए निम्नलिखित दस्तावेज़ आवश्यक हैं :

  1. बेरॉयथ विश्वविद्यालय के कार्मिक विभाग द्वारा भेजा गया आमंत्रण पत्र।
    1. ऐसे स्कॉलर जो बेरॉयथ विश्वविद्यालय में नौकरी करने वाले हैं उन्हें दूतावास में बेरॉयथ विश्वविद्यालय के कार्मिक विभाग द्वारा भेजा गया आमंत्रण पत्र प्रस्तुत करना होगा।
    2. बेरॉयथ विश्वविद्यालय में छात्रवृत्ति पाने वाले अतिथि स्कॉलर को दूतावास में अपने प्रायोजक प्रोफ़ेसर का आमंत्रण पत्र और छात्रवृत्ति प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा।
    3. बेरॉयथ विश्वविद्यालय में छोटी अवधि (तीन से छह माह) के लिए रुकने वाले अतिथि स्कॉलर को दूतावास में अपने प्रायोजक प्रोफ़ेसर का आमंत्रण पत्र प्रस्तुत करना होगा।
  2. मान्य पासपोर्ट
  3. बायोमेट्रिक मानकों पर खरा उतरने वाले अनेक पासपोर्ट फ़ोटो
  4. डिग्री प्रमाणपत्रों या छात्रवृत्ति पुष्टि प्रमाणपत्र की कॉपियाँ; अंग्रेज़ी या जर्मन में अनूदित और सत्यापित
  5. यात्रा स्वास्थ्य बीमा
  6. जर्मनी में छह माह से अधिक समय के लिए कार चलाने के इच्छुक अतिथि स्कॉलरों को अपने साथ अंतरराष्ट्रीय ड्राइवर लाइसेंस लाना होगा।

अपने परिवार के साथ आने वाले अतिथि स्कॉलर को वीजा के आवेदन के लिए निम्नलिखित की आवश्यकता होगी :

  1. परिवार के प्रत्येक सदस्य के लिए मान्य पासपोर्ट
  2. विवाह प्रमाणपत्र; जर्मन या अंग्रेज़ी में अनूदित और सत्यापित
  3. बच्चों के जन्म प्रमाणपत्र; जर्मन या अंग्रेज़ी में अनूदित और सत्यापित
  4. परिवार के सभी सदस्यों के पासपोर्ट फ़ोटो जो बायोमेट्रिक मानको पर खरा उतरें
  5. परिवार के प्रत्येक सदस्य के लिए यात्रा स्वास्थ्य बीमा

निम्नलिखित बातों पर ध्यान दें :

स्वास्थ्य बीमा :

  1. वीजा के आवेदन के लिए बेरॉयथ में निवास अवधि में पहले कुछ सप्ताहों के लिए स्वास्थ्य बीमा होना चाहिए। बहुत-से जर्मन दूतावासों के लिए तीन महीने का मान्य यात्रा स्वास्थ्य बीमा अनिवार्य है।
  2. बेरॉयथ विश्वविद्यालय के साथ कार्य अनुबंध करने वाले अतिथि स्कॉलर को सरकारी स्वास्थ्य बीमा मिलेगा।
  3. बेरॉयथ विश्वविद्यालय में छात्रवृत्ति पाने वाले अतिथि स्कॉलर निवास अवधि के लिए निजी स्वास्थ्य बीमा करवा सकते हैं। स्वागत केंद्र (Welcome Centre) इस संदर्भ में सहर्ष सहायता प्रदान करता है।

वीजा प्रक्रियाएँ :

  1. अतिथि स्कॉलरों को सही समय पर वीजा के लिए आवेदन कर देना चाहिए और इसकी प्रक्रिया के लिए दो से तीन माह का समय लेकर चलना चाहिए।
  2. जर्मनी में यात्री या शेंगन वीजा के साथ प्रवेश करने की सलाह बिलकुल नहीं दी जाती है। ऐसा करने पर यहाँ आने के बाद नौकरी के लिए निवास परमिट मिलने की कोई संभावना नहीं होती है।
  3. अगर अतिथि स्कॉलर का पति/पत्‍नी जर्मनी में नौकरी करना चाहता/चाहती है तो वीजा के आवेदन में इसका उल्लेख होना आवश्यक है।

 

ग) यूरोपीय शोधार्थी दिशानिर्देश से गैरयूरोपीय देशों के अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गतिशील स्कॉलरों के यूरोपीय संघ के सदस्य देशों में स्वीकृति मिलने की प्रक्रिया सरल बनती है क्योंकि इससे वीजा की प्रक्रिया आसान बनती है और इसमें कम समय लगता है।

शोधार्थी वीजा के साथ जर्मनी में प्रवेश करने के इच्छुक स्कॉलर को बेरॉयथ विश्वविद्यालय के स्वागत केंद्र द्वारा जारी मेजबानी करार प्रस्तुत करना होगा। इसके लिए निम्नलिखित दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी :

  1. पासपोर्ट की एक कॉपी
  2. वर्तमान डाक पता
  3. निवास अवधि की तिथियाँ (पहला और अंतिम दिन)
  4. बेरॉयथ विश्वविद्यालय में अतिथि स्कॉलर के प्रायोजक द्वारा शोध प्रोजेक्ट, जिसमें अतिथि स्कॉलर को शामिल होना है, का संक्षिप्त विवरण। इस विवरण में शोध प्रोजेक्ट के संदर्भ में अतिथि स्कॉलर की योग्यता और कर्तव्यों का वर्णन होता है।
  5. प्रतिमाह कम से कम कुल 1000 यूरो की आय का प्रमाण, जिसके लिए या तो कार्य अनुबंध या छात्रवृत्ति प्रमाणपत्र प्रस्तुत किया जा सकता है। अगर अतिथि स्कॉलर अपने परिवार के साथ जर्मनी आता है तो मौलिक आवश्यकताओं के लिए आवश्यक राशि में वृद्धि हो जाती है।

जर्मन निवास कानून के अनुच्छेद 20 के अनुसार शोध वीजा के निम्नलिखित लाभ हैं :

  • दूतावास में मेजबान करार प्रस्तुत करने के बाद आप कानूनी रूप से वीजा प्राप्त करने के अधिकारी हो जाते हैं, जिसे दूतावास स्थानीय आप्रवास ऑफ़िस से पहले संपर्क किए बिना जारी कर सकता है। इससे वीजा आवेदन की प्रक्रिया में अच्छी-खासी तेज़ी आती है।
  • स्कॉलर के साथ आने वाले पति/पत्नी को जर्मन भाषा दक्षता का प्रमाण देने की आवश्यकता नहीं होती है और यहाँ नौकरी के क्षेत्र में उन्हें पूरी स्वतंत्रता मिल जाती है।
  • अतिथि स्कॉलर को अपने शोध प्रोजेक्ट के संदर्भ में तीन माह तक शेंगन क्षेत्र में यात्रा की स्वतंत्रता मिलती है।